बेटा

” जिसने भी इस खबर को सुना सर पकड़ लिया ,
कल इक दिये ने आँधी का कालर पकड़ लिया !

उसकी रगो में दौड़ रहा था मेरा लहुँ ,
बेटे ने बढ़ के दस्त-ए -सितमगर पकड़ लिया!! “